शनिवार, 5 अगस्त 2017

आँखों की देखभाल के कुछ उपाय

आँखों की देखभाल के कुछ उपाय
कम उम्र में चश्मा लग जाना आजकल एक सामान्य सी बात है। इस समस्या से जुझ रहे लोग इसे मजबूरी मानकर हमेशा के लिए अपना लेते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है कि अगर किसी कारण से एक बार चश्मा लग जाए तो वह उतर नहीं सकता। चश्मा लगने का सबसे प्रमुख कारण आंखों की ठीक से देखभाल न करना, पोषक तत्वों की कमी या अनुवांशिक हो सकते हैं। इनमें से अनुवांशिक कारण को छोड़कर अन्य कारणों से लगा चश्मा सही देखभाल व खानपान का ध्यान रखने के साथ ही देसी नुस्खे अपनाकर उतारा जा सकता है।आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ ऐसे ही घरेलू नुस्खे जो आंखों की समस्या में रामबाण की तरह काम करते हैं....
- पैर के तलवों पर सरसों के तेल की मालिश करके सोएं। सुबह के समय नंगे पैर हरी घास पर चलें व नियमित रूप से अनुलोम-विलोम प्राणायाम करें आंखों की कमजोरी दूर हो जाएगी।
- एक चने के दाने जितनी फिटकरी को सेंककर सौ ग्राम गुलाबजल में डालें और रोजाना रात को सोते समय इस गुलाबजल की चार-पांच बूंद आंखों में डाले साथ पैर के तलवों पर घी की मालिश करें इससे चश्में के नंबर कम हो जाते हैं।
- आंवले के पानी से आंखें धोने से या गुलाबजल डालने से आंखें स्वस्थ रहती है।
- बादाम की गिरी, बड़ी सौंफ व मिश्री तीनों को समान मात्रा में मिला लें। रोज इस मिश्रण को एक चम्मच मात्रा में एक गिलास दूध के साथ रात को सोते समय लें।
- बेलपत्र का 20 से 50 मि.ली. रस पीने और 3 से 5 बूंद आंखों में काजल की तरह लगाने से रतौंधी रोग में आराम होता है।

- आंखों के हर प्रकार के रोग जैसे पानी गिरना , आंखें आना, आंखों की दुर्बलता, आदि होने पर रात को आठ बादाम भिगोकर सुबह पीस कर पानी में मिलाकर पी जाएं।
- कनपटी पर गाय के घी की हल्के हाथ से रोजाना कुछ देर मसाज करने पर आंखों की रोशनी बढ़ती है।
- रात्रि में सोते समय अरण्डी का तेल या शहद आंखों में डालने से आंखों की सफेदी बढ़ती है।
- नींबू एवं गुलाबजल का समान मात्रा का मिश्रण एक-एक घण्टे के अंतर से आंखों में डालने से आखों को ठंडक मिलती है। हैं।
- त्रिफला चूर्ण को रात्रि में पानी में भीगोकर, सुबह छानकर उस पानी से आंखें धोने से नेत्रज्योति बढ़ती है।
- लघुपाठा नामक लता के पत्तियों के रस को भी नेत्र रोगों में प्रयोग कराने का विधान है।
- रोजाना दिन में कम से कम दो बार अपनी आंखों पर ठंडे पानी के छींटे जरूर मारें। रात को त्रिफला (हरड़, बहेड़ा व आंवला) को भिगोकर सुबह उस पानी से आंखे धोने से आंखों की बीमारियां दूर होती है व ज्योति बढ़ती है।

- एक चम्मच पानी में एक बूंद नींबू का रस डालकर दो-दो बूंद करके आंखों में डालें। इससे आंखें स्वस्थ रहती है।
- आंखों पर चोट लगी हो, जल गई हो, मिर्च मसाला गिरा हो, कोई कीड़ा गिर गया हो, आंख लाल हो, तो दूध गर्म करके उसमें रूई का फुआ डालकर ठंडा करके आंखों पर रखने से लाभ होता है।
- 1से 2 ग्राम मिश्री तथा जीरे को 2 से 5 ग्राम गाय के घी के साथ खाने से एवं लेंडीपीपर को छाछ में घिसकर आंखों में लगाने से रतौंधी में फायदा होता है।
- ठंडी ककड़ी या कच्चे आलू की स्लाइस काटकर दस मिनट आंखों पर रखें। पानी अधिक पीएं। पानी कमी से आंखों पर सूजन दिखाई देती हैं। सोने से 3 घंटे पहले भोजन करना चाहिए। ऐसा करने से आंखे स्वस्थ रहती हैं।
- गुलाब जल का फोहा आंखों पर पर एक घंटा बांधने से गर्मी से होने वाली परेशानी में तुरंत आराम मिल जाता है 
- श्याम तुलसी के पत्तों का दो-दो बूंद रस 14 दिन तक आंखों में डालने से रतौंधी रोग में लाभ होता है। इस प्रयोग से आंखों का पीलापन भी मिटता है।
- केला, गन्ना खाना आंखों के लिए हितकारी है। गन्ने का रस पीएं। एक नींबू एक गिलास पानी में पीते रहने से जीवन भर नेत्र ज्योति बनी रहती है।
- हल्दी की गांठ को तुअर की दाल में उबालकर, छाया में सुखाकर, पानी में घिसकर सूर्यास्त से पूर्व दिन में दो बार आंख में काजल की तरह लगाने से आंखों की लालिमा दूर होती है व आंखें स्वस्थ रहती हैं।
- सुबह के समय उठकर बिना कुल्ला किये मुंह की लार (Saliva) अपनी आँखों में काजल की भाँती लगायें. लगातार ६ महीने करते रहने पर चश्मे का नंबर कम हो जाता है.

सोमवार, 3 जुलाई 2017

अपने आप को जवान और तंदुरुस्त महसूस करेंगे


  • आज बढ़ते हुए तनाव, मानसिक थकान, चिंता, शारीरिक रोग ये सब असमय ही इंसान को बूढा बना देती हैं। भरी जवानी में इंसान बूढा नज़र आने लगता हैं। अगर आप अपना योवन कायम रखना चाहते हैं तो आपको यथासंभव तनाव, चिंता को त्यागना होगा। कहा भी जाता हैं के चिंता से बड़ा कोई शारीरिक शत्रु नहीं हैं। योग करे, ध्यान करे, दोस्तों से मिले, बच्चो और बुज़ुर्गो के साथ समय बिताये, किसी क्लब का सदस्य बनिए, हफ्ते में एक दिन गौशाला जाइए, किसी गरीब को खाना खिलाये। इस से आपकी तनाव और चिंता भाग जाएगी। 
  • इसके साथ हम आज आपको बताने जा रहे हैं आयुर्वेद के एक ऐसे सदाबहार चूर्ण के बारे में जिसको खा कर आप सदा अपने आप को जवान और तंदुरुस्त महसूस करेंगे। बस इसको अपने दैनिक जीवन में शामिल करे।  
➡ आवश्यक सामग्री :
  1. सूखे आंवले का चूर्ण
  2. काले तिल (साफ़ कर के) इसका चूर्ण।
  3. भृंगराज (भांगरा) का चूर्ण।
  4. गोखरू का चूर्ण।
➡ आइये जाने इसको घर पर बनाने की विधि :
  • पहले ये सब 100 – 100 ग्राम की मात्रा में ले कर मिला लीजिये, फिर इस में 400 ग्राम पीसी हुयी मिश्री मिला लीजिये। तत्पश्चात इसमें 100 ग्राम शुद्ध देशी गौ घृत (गाय का घी) मिला लीजिये और आखिर में इस में 300 ग्राम शहद मिला लीजिये। (ध्यान रहे घी और शहद समान मात्रा में कभी नही ले) अब इस चूर्ण को किसी कांच के बर्तन में या घी के चिकने मिटटी के पात्र या चीनी के बर्तन में सुरक्षित रख ले। इस चूर्ण को एक चम्मच (5 ग्राम) की मात्रा में खाली पेट नित्य सेवन करे और ऊपर से गाय का दूध या गुनगुना पानी पीजिये।
➡ सावधानी : 
  • घी और शहद परस्पर समान मात्रा में धीमे ज़हर का काम करते हैं। इसलिए इनकी समान मात्रा नहीं लेनी।
➡ इसके अद्भुत फायदे : 
  • इस चूर्ण से आपके शरीर का पूरा कायाकल्प हो जायेगा। यदि छोटी आयु में बाल झड़ गए हैं तो पुनः दोबारा उग आएंगे, अगर सफ़ेद हो गए हैं तो काले हो जायेंगे, और वृद्धावस्था तक काले बने रहेंगे। ढीले दांत भी मज़बूत बन जायेंगे। चेहरे पर कान्ति आ जाएगी। शरीर शक्ति शाली और बाजीकरण युक्त हो जाएगा। और कुछ ही दिनों में दुर्बल व्यक्ति भी अपना वज़न पूरा कर शक्तिशाली बन जाता हैं।
➡ परहेज : 
  • अंडा, मांस, मछली, नशीले पदार्थो का सेवन वर्जित हैं।

मंगलवार, 30 मई 2017

होम्यो पैथी के अनमोल मोती



उप युक्त आठ रोग स्थितियों में निर्देशित औषधियों का अध्ययन लगभग 95 प्रतिशत प्रकरणों में असफ़लता  हाथ नही लगने देता । शक्ति क्रम
एक दम से न बदलें।  इसके अतरिक्त विटामिन सी के स्रोत  जैसे अमरूद, नीबू, संतरा, आदि रस रूप में लेने से शीघ्र लाभ मिलता है

श्वशन तंत्र का संक्रमण
=================
1-आर्सेनिक एल्बम सार्बाधिक उपयोगी(30 TO IM)
2-ब्रायोनिया (BRAYONIA-30)
3-मर्कसोल (MERC SOL-30)
4-रसटाक्स (RHUS TOX-30)
5-हीपर सल्फ ( HEPAR SULPH-30)
6-बेला डोना ( BELA DONA-30)
दमा( Bronchial Acthma)
================
1-आर्सेनिक एल्बम सार्बाधिक उपयोगी (30 TO 200)
2-हीपर सल्फ ( HEPAR SULPH-30)
3-काली कार्ब (KALI CARB-30)
4-लाइको पोडियम (LYCO PODIUM-30)
5-नेट्रम सल्फ (NATRUM SULPH-30)
6-फास्फोरस (PHOSPHORUS-30)
7-पल्सटिला (PULSATILA)

टान्सिल(Tonsils)
=============
1-हीपर सल्फ ( HEPAR SULPH-30) सार्वाधिक उपयोगी
2-बेला डोना ( BELA DONA-30)
3-मर्कसोल (MERC SOL-30)
4-फाईटो लक्का (PHYOTA LACCA-30-200)
5-बेराइटा कार्ब (BARYTA CARB-30 TO 200)

पेचिस (DYSENTRY)
===============
1-मर्कसोल (MERCSOL-30 TO 200) सार्वाधिक उपयोगी
2-कार्वोबेज (CARBO VEG-30)
3-ऐलो (ALOEX-30)
4-सल्फर (SULPHER-30)
5-नक्स वोमिका (NUXVOMICA-30)
6-लाइकोपोडियम (LYCO PODIUM-30)
7-ब्राओनिया (BRYO NIA-30-200) सार्वाधिक उपयोगी
8-आर्सेनिक एल्बम सार्बाधिक उपयोगी (30 TO 200)

साइनस(sinusitis)
==============
1-काली बाइक्रोमिकम (KALI BHICH-30)
2-बेला डोना ( BELA DONA-30)
3-नक्स वोमिका (NUXVOMICA-30)
4-रसटाक्स (RHUS TOX-30)
5-साइलेशिया( SI LI CEA-30)
 6-रसटाक्स (RHUS TOX-30)

बच्चों का अतिसार
===============
1-कैमोमिला( CHAMOMI LLA-30)
2-ऐलो(ALOES-30)
3-पोडो फाइलम(PODO PHAYLUM-30)
4-नक्स वोम( NUX VOM-30)
5-इपिकाक(IPI CAC-30)

मुंह मसूडो, और दांतो का प्रदाह (gingivitis/perodontitis)
=========================================
1-मर्कसोल (MERCSOL-30 TO 200) सार्वाधिक उपयोगी
2-क्रियो जोटम (KREOSOTUM-30)
3-हेकला लावा (HECLA LAVA-30)
4-मेजेरियम( MEZEREUM -30)
5-जोडों में दर्द अमावत (Rheumatoid Arthritis)
6-रस टाक्स ( RHUS TOX-30)
7-ब्रायो निया( BRAYONIA-30)
8-मेडो रिनम (MEDORINUM-30)
9-कैलि कार्ब (CALI CARB-30)
10-सल्फर ( SULPHER-30)
11-कास्टिकम ( CASTICUM-30)
सभी दवायें 3 से 5 बूंद दिन में तीन बार लें